Mangal ke Din ki Fazilat /मंगल की दिन फजीलत /दिनों की फजीलत

Mangal ke Din ki Fazilat /मंगल की दिन फजीलत / मंगल के दिन के नवाफिल नमाजे / मंगल की रात के नवाफिल नमाजे, दिनों की फजीलत

    मंगल के दिन अल्लाह तआला ने बीमारी को पैदा फरमाया। हदीस में आया है कि अल्लाह तआला ने इसी दिन बीमारी को पैदा फरमाया।

  • मंगल ही के दिन इब्लीस को ज़मीन पर उतारा

  • मंगल ही के दिन जहन्नम को पैदा किया गया।

  • मंगल ही के दिन अल्लाह तआला ने हजरत इजराईल अलैहिस्सलाम को इन्सानों की जान लेने की जिम्मेदारी सौंपी।
  •  मंगल ही के दिन हज़रत मूसा व हारून अलैहिमस्सलाम ने वफात पाई।

  • मंगल ही के दिन हज़रत अय्यूब अलैहिस्सलाम बीमारी में मुब्तला हुए

मंगल के दिन के नवाफिल

      हदीस में है कि जो शख़्स मंगल के दिन सुबह जब सूरज कुछ बलन्द हो जाए तब 10 रकात नफ्ल दो दो करके इस तरह पढ़े कि हर रकात में सूरह फातिहा के बाद आयतल कुर्सी एक बार और सूरह इख्लास तीन बार पढ़े।
          तो 70 दिन तक उसके आमाल नामा में उसका कोई गुनाह दर्ज नहीं होता और अगर 70 दिन के अन्दर मर जाए तो उसको शहीद का रूतबा अता किया जाता है और उसके 70 साल के गुनाह माफ कर दिये जाते हैं।
(अहयाउल उलूम जि.19204, 
गुनयतुत्तालिबीन जि 2 पे.140) 


मंगल की रात के नवाफिल

हदीस में है कि जो कोई मंगल की रात 12 रकात नफ्ल दो दो करके इस

     तरह पढ़े कि हर रकात में सूरह फातिहा के बाद सूरह नस्र 5 बार पढ़े। तो अल्लाह तआला उसके लिये जन्नत में एक ऐसा महल बनाता है,

जिसकी लम्बाई चौड़ाई इस दुनिया से सात गुना बड़ा है।

दो रकात नफ्ल इस तरह पढ़े कि हर रकात में सूरह फातिहा के बाद सूरह इख्लास, सूरह फलक व सूरह नास 15-15 बार पढ़े, नमाज के बाद 15 बार आयतल कुर्सी और 15 बार इस्तिम्फार पढ़े उसे बहुत सवाब मिलेगा।

जो कोई मंगल की रात 2 रकात नमाज़ इस तरह पढ़े कि हर रकात में सूरह फातिहा के बाद सूरह कद्र और सूरह इख्लास सात-सात बार पढ़े

    तो अल्लाह तआला उसको दोजख की आग से आजाद फरमा देगा और कयामत के रोज जन्नत में दाखिल करेगा।

Note:- नाज़रीन ये था Mangal ke Din ki Fazilat /मंगल की दिन फजीलत / मंगल के दिन के नवाफिल नमाजे / मंगल की रात के नवाफिल नमाजे, दिनों की फजीलत

ततररी कुछ ज़रूरी बातें जो क़ुरआन और हदीस से साबित होती हैं। अगर आप का दीन और दुनिया से जुड़ा कोई सवाल है, या फिर आप हमें कुछ नसीहत करना चाहते हैं। हमें कमेंट बॉक्स में ज़रूर बताएं।

उम्मीद करते हैं आप को पोस्ट पसंद आयी होगी

जज़ाक़ अल्लाह



Previous Post Next Post